Top
Home > छत्तीसगढ़ > खुशखबरी- जिला अस्पताल में कोरोना पीड़ित मां ने दिया स्वस्थ नवजात को जन्म,परिवार वाले झूमे खुशी से।

खुशखबरी- जिला अस्पताल में कोरोना पीड़ित मां ने दिया स्वस्थ नवजात को जन्म,परिवार वाले झूमे खुशी से।

खुशखबरी- जिला अस्पताल में कोरोना पीड़ित मां ने दिया स्वस्थ नवजात को जन्म,परिवार वाले झूमे खुशी से।
X

0 अनेक शारीरिक जटिलताओं व कोरोना को मात देकर शिशु और मां स्वस्थ।

ताहिर खान

कवर्धा- बेबस और लाचारी भरे संक्रमण दौर में लगातार मिल रही नकारात्मक खबरों के बीच जिला अस्पताल से एक सकारात्मक खबरें निकल कर आई है जहां कोरोना से संक्रमित महिला ने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है। बेहद मुश्किल दौर से गुजर रहे हालात के बीच उम्मीदों की किरण जब नजर आती है तो उसकी खुशी कई गुनी हो जाती है। स्वास्थ्य विभाग रोड तरह-तरह से आ रही नकारात्मक खबरों से परेशान और हताश दिखाई दे रहे थे लेकिन बच्चे की किलकारी ने एक बार फिर जिला अस्पताल की पूरी टीम को उत्साह से भर दिया है। तमाम जटिलताओं और खतरों के बीच बच्चे की डिलीवरी सफलतापूर्वक कराई गई , इसके बाद परिवार पूरा खुशी से झूम उठा और स्वास्थ्य विभाग का धन्यवाद ज्ञापित किया। "मैं, मोर बेटी अउ हमार परिवार जेन पीरा ले गुजरे हन ओमा स्वास्थ्य विभाग के दल ह हमर मदद करीन हें। कोरोना पीड़ित होते हुए मोर सरकारी डॉक्टर अउ सिस्टर मन नॉर्मल डिलीवरी करवईन हें। अपन जान ल जोखिम में डाल के आज मोला अउ मोर लईका का बचा लीन, मोर अउ मोर परिवार बर एमन भगवान बरोबर हें।" यह शब्द उस कोरोना पीड़ित मां की है जो कोरोना से लड़ते-लड़ते अपनी पहली संतान को जन्म दी है। दरअसल कोरोना संक्रमित मां के नवजात को कोरोना संक्रमण से बचाने में जिला अस्पताल की टीम को सफलता मिली है। गत दिनों पिपरिया समीपस्थ ग्राम जिंदा की अंजू कौशिक पति अंकित कौशिक को प्रसव के लिए पीएचसी ले जाया गया, जहां प्रसव के दौरान प्लेसेंटा फंसने के कारण प्रसूता को जिला अस्पताल रेफर किया गया। विदित हो कि कोरोना जांच में अंजू का रिपोर्ट पॉजिटिव पाया गया। ऐसी स्थिति में जिला अस्पताल की टीम ने सेफ्टी किट पहनकर प्रसूता का उपचार किया व सूझबूझ से बच्चे को कोरोना संक्रमण से बचाया। बच्चे का कोरोना जांच किया गया जिसमें वह नेगेटिव पाई गई। मां को महाराजपुर स्थित कोविड केयर में रखा गया व बच्ची को जिला अस्पताल स्थित नवजात गहन चिकित्सा इकाई(एस एन सी यू) में रखकर देखकर की गई। इस सम्बंध में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ सलिल मिश्रा ने बताया कि बच्ची को एस एन सी यू में विशेष निगरानी में रखकर उपचार किया गया। रविवार को बच्ची पूर्ण स्वस्थ स्थिति में घर भेजी गई है। डॉ मिश्रा ने बताया कि जन्म के समय बच्ची का वजन कम था अब धीरे-धीरे उसका वजन बढ़ रहा है। बच्ची की देखरेख सम्बन्धी सम्पूर्ण जानकारी देकर बच्ची को उसके परिजनों को सौप दिया गया है।
इधर कोविड अस्पताल में बच्ची की मां कोरोना से जूझ रही थी जिसको स्वस्थ होने के उपरांत छुट्टी दे दी गई है।

कलेक्टर और सीएमएचओ ने टीम को लगन से कार्य करने की दी शुभकामनाएं


जिला कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा व सीएमएचओ डॉ सुरेश कुमार तिवारी ने जिला अस्पताल की टीम को कोरोना संक्रमित महिला के प्रसव उपरांत बच्चे को स्वस्थ बचा लेने पर शुभकामनाएं दी है व भविष्य में भी इसी प्रकार टीम वर्क के माध्यम से बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने की उम्मीद जताई। कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी के दौर में स्वास्थ्य दल द्वारा लगन से कार्य किया जा रहा है। विपरीत हालातों में टीम वर्क के कारण सफलता मिल रही है।
उन्होंने जनता से बढ़ते कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद करने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि जनता के सहयोग और समझदारी के बिना कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकना सम्भव नही है। स्वास्थ्य दल की मेहनत तभी सफल होगी जब सभी एकजुट होकर कोरोना के खिलाफ जंग में साथ देंगे।

Updated : 7 Sep 2020 11:11 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top