Top
Home > छत्तीसगढ़ > मुस्लिम समाज का अनुकरणीय फैसला, कोरोना संक्रमण को देखते हुए महीने भर बंद रहेंगी मस्जिद, नहीं पढ़ी जाएगी पूरी जमात के साथ नमाज।

मुस्लिम समाज का अनुकरणीय फैसला, कोरोना संक्रमण को देखते हुए महीने भर बंद रहेंगी मस्जिद, नहीं पढ़ी जाएगी पूरी जमात के साथ नमाज।

मुस्लिम समाज का अनुकरणीय फैसला, कोरोना संक्रमण को देखते हुए महीने भर बंद रहेंगी मस्जिद, नहीं पढ़ी जाएगी पूरी जमात के साथ नमाज।
X

0 मुतवल्ली के मौजूदगी में पदाधिकारियों व समाज प्रमुखों ने लिया फैसला, जुम्मे की भी नहीं होगी नमाज।

ताहिर खान
कवर्धा - शहर के अंदर बढ़ रहे हैं लगातार कोरोना के संक्रमण को देखते हुए मुस्लिम जमात ने एक अनुकरणीय फैसला लिया है कि शहर की तीनों मस्जिद आज से पूरे सितंबर माह तक बंद रहेंगे, हालांकि स्तिथि को देखते हुए फिर बैठक आयोजित कर हालत के हिसाब से फैसला लिए जाएंगे। मस्जिदों में इस दौरान यहां तक जुमे की भी नमाज अदा नही की जाएगी,इमाम के अलावा सिर्फ चार लोग ही जुमे की नमाज़ में शामिल होंगे। मार्च-अप्रैल के लॉकडाउन के दौरान जो सरकार ने गाइडलाइन तय की थी उसी गाइडलाइन के मुताबिक महज चार या पांच ही लोग मस्जिद में जाकर नमाज अदा करेंगे इसके अलावा किसी को भी नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी। मुतवल्ली यूनुस वकील की मौजूदगी में जमात के पदाधिकारियों एवं शहर के मुस्लिम मोहल्लों से पहुंचे समाजिक बंधुओं ने एक सुर में यह प्रस्ताव पास करते हुए मस्जिद को एक महीना यानी पूरी सितंबर माह बंद रखने का फैसला लिया गया है। मुतवल्ली यूनुस वकील ने बताया की यह वक्त एक साथ रहकर कोरोना के खिलाफ खड़े होने का है। सभी को शहर की बेहतरी व सुरक्षा में हम सबको अपनी सामाजिक जिम्मेदारियो का निर्वहन करने का वक़्त है, सभी लोग मिलकर इस लड़ाई को जीत सकते हैं, शहर में बढ़ रहे कोरोना के आंकड़े व शहर की फिज़ा को देखते हुए मस्जिद को बंद रखने का फैसला लिया गया है।

शहर को लॉकडाउन करने की उठने लगी मांग

शहर के घने इलाको में कोरोना वायरस अपना पैठ जमाने लग गया है व बेहद तेजी के साथ पैर पसार रहा है। कोरोना वायरस की कड़ी को जल्द ही तोड़ा नही गया तो स्थिति बेहद आने वाले समय में भयावह रहेगी। इस जानलेवा वायरस के चलते अब तक 02 लोग मौत के गाल में समा चुके हैं। जल्द ही सुरक्षात्मक कदम नहीं उठाए गए तो स्थिति नियंत्रण के बाहर से हो जाएगी। सोशल मीडिया में भाजपा की दिग्गज नेत्री व राजनांदगांव के पूर्व महापौर शोभा सोनी की मौत की खबर आने के बाद राजनंदगांव स्थानीय लोगो और व्यापारियों ने लॉकडाउन करने का प्रस्ताव कलेक्टर को दिया जिसके पश्चात कलेक्टर ने हामी भरते हुए राजनांदगांव शहर को लॉकडाउन करने की घोषणा कर दी है। इसी प्रकार कवर्धा में भी आम जनता व व्यापारी भी सोशल मीडिया के माध्यम से लॉडाउन करने की मांग कर रहे हैं। शहर के लोगों की सुरक्षा को देखते हुए एक-दो दिन में लॉकडाउन को लेकर बड़ा फैसला आ सकता है जिसमें 7 से लेकर 14 दिन का लॉकडाउन शहर को किया जा सकता है, सभी की निगाहें अब चेंबर ऑफ कॉमर्स पर जा टिकी हुई है क्योंकि पहल व्यापारियों को ही करना है,क्योंकि नई गाइडलाइन के अनुसार कलेक्टर पूरे शहर (कंटेनमेंट जोन को छोड़कर) लॉकडाउन नहीं कर सकते अब फैसला शहर के रहवासी एवं व्यापारियों को करना है कि वे स्वस्फूर्त कितने दिनों के लिए बंद रख सकते हैं और लॉकडाउन के नियमों को पालन कर सकते हैं, तब कहीं जाकर कोरोना वायरस की कड़ी टूटेगी और शहर एक बार फिर खुली हवाओं की फिजा में सांस ले पाएगा।

Updated : 2 Sep 2020 7:44 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top