Top
Home > छत्तीसगढ़ > गोधन न्याय योजना- 15 दिनों में ही किसानों ने 5 लाख की गोबर बेच दी सरकार को।

गोधन न्याय योजना- 15 दिनों में ही किसानों ने 5 लाख की गोबर बेच दी सरकार को।

गोधन न्याय योजना- 15 दिनों में ही किसानों ने 5 लाख की गोबर बेच दी सरकार को।
X

0 74 गौठानों में 2 लाख 57 हजार 353 किलोग्राम (2573 क्विंटल) गोबर की खरीदी।

0 गोबर विक्रेता 819 गौपालक, किसान और ग्रामीणों के खाते में 5 लाख 14 हजार रूपए जारी

ताहिर खान/कवर्धा- छत्तीसगढ़ में ग्रामीण अर्थ व्यवस्था को मजबूत करने, गौपालकों के आय में बढ़ोत्तरी करने के साथ-साथ प्रदेश में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई गोधन न्याय योजना के प्रति कबीरधाम जिले में भारी उत्साह देखा जा रहा है। इस योजना को गौपालक, ग्रामीणजन और किसान बहुत पसंद कर रहे है। गोधन न्याय योजना के तहत जिले के 74 गौठानों में गोबर की खरीदी की जा रही है। गोधन योजना की शुरूआत से लेकर महज 15 दिनों में सभी गौठानों में 819 गौपालकों और ग्रामीणों से 2 लाख 57 हजार 353 किलोग्राम (2573 क्विंटल) गोबर की खरीदी की गई है। इन सभी गौपालकों और ग्रामीण हितग्राहियों के खाते में जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के गौठान के खातो के माध्यम से सीधे 5 लाख 14 हजार रूपए जारी किया गया है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा राज्य में किसानों के प्रमुख और प्रदेश के पहली तिहार हरेली पर्व पर गोधन न्याय योजना की शुरूआत की गई। प्रदेश में नई सरकार बनने के बाद ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृण, सशक्त और स्वालंबन बनाने की दिशा में प्राथमिकता से काम किया जा रहा है। सुराजी गांव योजना के तहत छत्तीगढ़ के चार चिन्हारी, नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बाड़ी के तहत ग्रामीण, किसानों के आय में वृद्वि और गांव स्तर पर रोजगार सृजन कर तकनिकी खेती बाड़ी को बढ़ावा देने के लिए योजनाएं संचालित की जा रही है। गोधन न्याय योजना के तहत जिले के 74 गौठानों में 2 रूपए प्रति किलोग्राम परिवहन व्यय सहित गोबर खरीदी की जा रही है। कबीरधाम जिले में गौपालक किसानों, ग्रामीणों में इस योजना को लेकर अभुतपूर्व उत्साह और उमंग का वातावरण बना हुआ है। जिले में महज 15 दिनों में ही 5 लाख 14 हजार रूपए की गोबर खरीदी कर ली गई है। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के जिला नोडल अधिकारी बद्री चंद्रवंशी ने बताया कि जिले के 74 गौठानों में 819 गोबर विक्रेताओं का पंजीयन किया गया है। सभी विक्रेताओं का बैंक खाता भी खोला गया है। राज्य सरकार के मंशानुसार सभी गोबर विक्रेताओं के खाते में 5 लाख 14 हजार रूपए राशि डाल दिए गए है। गोधान न्याय योजना अंतर्गत जिले के 74 गौठानों से हरेली त्यौहार से शुरू की गई इस योजना के तहत प्रतिदिन गोबर की खरीदी जा रही है।

Updated : 6 Aug 2020 12:01 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top