Top
Home > Breaking News > भोरमदेव मंदिर क्षेत्र में धूम्रपान करना अपराध की श्रेणी में, लगेगा जुर्माना, नाबालिगों को भी बेचना जुर्म।

भोरमदेव मंदिर क्षेत्र में धूम्रपान करना अपराध की श्रेणी में, लगेगा जुर्माना, नाबालिगों को भी बेचना जुर्म।

भोरमदेव मंदिर क्षेत्र में धूम्रपान करना अपराध की श्रेणी में, लगेगा जुर्माना, नाबालिगों को भी बेचना जुर्म।
X

0भोरमदेव को तम्बाकू रहित बनाने कार्रवाई शुरू

0 नोडल अधिकारी नियुक्त।

ताहिर खान

कवर्धा- तंबाकू पदार्थ के बढ़ते हुए दायरे वह उसके नुकसान को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग व ज़िला प्रशासन ने भोरमदेव मंदिर के अंदर व आसपास क्षेत्र में धूम्रपान करने को अपराध की श्रेणी में शामिल किया है। अब यदि कोई भी पर्यटक या वहां के रहवासी धूम्रपान करते हुए नजर आएंगे तो उनके ऊपर जुर्माना लगाया जाएगा साथ ही आसपास धूम्रपान पदार्थ बेचने वालों पर भी कार्रवाई हो सकती है, इसी प्रकार नाबालिगों को धूम्र प्रधान पदार्थ बेचने व शिक्षा संस्थान के आसपास धूम्रपान करना व बेचना भी अपराध की श्रेणी में रखा गया है।

भोरमदेव पर्यटन को तम्बाकू रहित क्षेत्र बनाने स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा कार्रवाई की गई। इसके तहत गत 11 जुलाई को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सुरेश कुमार तिवारी के निर्देशन उपरांत एन टी सी पी के जिला नोडल डॉ अरुण चौरसिया की टीम द्वारा भोरमदेव समिति के व्यस्थापक से मिलकर तम्बाकू निषेध क्षेत्र बनाने हेतु किए जाने वाले कार्यों की जानकारी दी गई। इसके साथ ही पर्यटन स्थल के मुख्य स्थानों का चयन कर तम्बाकू रहित क्षेत्र का साइन बोर्ड लगाने के लिए साइन बोर्ड प्रदाय किया गया। डॉ चौरसिया ने बताया कि कोटपा अधिनियम 2003 की धाराओं को लगातार प्रचारित किया जा रहा है, जिससे लोगों में जागरूकता आये व कानून के भय से ही सही लोग तम्बाकू निषेध नियमों का पालन करें।

नाबालिक को तम्बाखू पदार्थ बेचना भी अपराध।

18 वर्ष से कम आयु वर्ग द्वारा तम्बाकू पदार्थ की खरीदी व बिक्री अपराध की श्रेणी में आता है। शिक्षण संस्थान के 100 गज के दायरे में तम्बाकू पदार्थ बेचना जुर्म है। बिक्री स्थलों पर तम्बाकू से होने वाले नुकसानों की सही जानकारी सम्बन्धी साइन बोर्ड लगाना अनिवार्य है , ऐसा नही करने वालों पर कार्रवाई की जा सकती है। डॉ चौरसिया ने कहा कि तम्बाकू निषेध के लिए सार्वजनिक प्रयास व संकल्प कारगर होगा, क्योंकि अधिकांस लोगों को तम्बाकू से होने वाली हानियों के बारे में पता है, इसके बावजूद लोग तम्बाकू पदार्थों का सेवन करते हैं।

उक्त कार्रवाई हेतु डॉ चौरसिया की टीम में तम्बाकू निषेध पर कार्य करने आई एनजीओ द यूनियन से संजय नामदेव, एनसीडी स्टाफ गौरव सोनी शामिल थे।

प्रमोद दुबे को बनाया गया नोडल, करेंगे चलानी कार्रवाई

डॉ चौरसिया ने बताया कि भोरमदेव क्षेत्र में तम्बाकू निषेध करवाई के लिए मंदिर व्यवस्थापक प्रमोद दुबे को नोडल नियुक्त किया गया है, इनके द्वारा आसपास के क्षेत्रों में नियम विरुद्ध तम्बाकू खरीद-बिक्री करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। टीम के द्वारा भोरमदेव व आसपास के क्षेत्रों में संचालित पान व किराना दुकानों का भ्रमण कर तम्बाकू क्रय-विक्रय नियमों के सम्बंध में जानकारी दी गई।

Updated : 12 July 2020 1:04 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top