Top
Home > Breaking News > सूरजपुर जाने से पहले राजनांदगांव में रुका था कोरोना पेशेंट,जनप्रतिनिधि,अधिकारियों की होगी जांच, 700 श्रमिक कैंप में थे रुके।

सूरजपुर जाने से पहले राजनांदगांव में रुका था कोरोना पेशेंट,जनप्रतिनिधि,अधिकारियों की होगी जांच, 700 श्रमिक कैंप में थे रुके।

सूरजपुर जाने से पहले राजनांदगांव में रुका था कोरोना पेशेंट,जनप्रतिनिधि,अधिकारियों की होगी जांच, 700 श्रमिक कैंप में थे रुके।
X


0 शिविर पहुंचे सभी जनप्रतिनिधियों का हो सकता है कोरोना टेस्ट।
0 अधिकारियो की भी उड़ी नींद।

ताहिर खान /बसन्त शर्मा
कवर्धा /राजनांदगांव- चिरचारी शिविर में ठहराए गए एक श्रमिक के पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद प्रशासन ने यह निर्णय लिया है कि शिविर में प्रदेश और जिले के जितने भी जनप्रतिनिधि निरीक्षण करने या श्रमिकों से मुलाकात करने पहुंचे थे, उन सभी का कोरोना टेस्ट कराया जा सकता हैै, जो बड़ी संख्या में चिरचारी शिविर में शामिल हुए थे । एक जानकारी के अनुसार कांग्रेस से छोटे से लेकर प्रदेश स्तर के पदाधिकारी जिसमें क्षेत्रीय विधायक भी शामिल थे। शिविर में शामिल होकर मजदूरों से हालचाल जाना था एवं उनके भोजन व्यवस्था का भी निरीक्षण किया था। कांग्रेस के अलावा भाजपा के कई कार्यकर्ता भी अलग-अलग दिनों में चिरचारी शिविर पहुंचकर श्रमिकों से मुलाकात की थी। अब प्रशासन के लिए यह सरदर्द हो गया है कि पहले से ही यहां 700 श्रमिक ठहराए गए थे, जिनकी सूची तैयार करना बड़ी चुनौती है। उन श्रमिकों के अलावा अब जनप्रतिनिधियों की संख्या भी सैकड़ों में हैं, जो अलग-अलग दिनों में राहत शिविर में शामिल हुए थे । समझा जा रहा है कि दो-तीन दिन के भीतर सभी जनप्रतिनिधियों का टेस्ट कराया जा सकता हैै। मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने वाले जनप्रतिनिधियों की भी सूची तैयार की जा रही है।

कई प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल

राहत शिविर की देखरेख के लिए स्थानीय स्तर पर कई प्रशासनिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई थी। पुलिस कर्मचारी और अफसर भी ड्यूटी पर थे, वन विभाग के कुछ कर्मचारी भी ड्यूटी में शामिल थे । अब इन सबका कोरोना टेस्ट हो सकता है। हालांकि पुलिस ने पहले से ही ड्यूटी कर रहे अपने कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट कराने का निर्णय लिया है।

मीडिया कर्मी भी गए थे कवरेज के लिए

चिरचारी शिविर में बड़ी संख्या में राजनांदगांव एवं आसपास क्षेत्र के मीडिया कर्मी बड़ी संख्या में चिरचारी शिविर पहुंचे थे और वहां का निरीक्षण कर अपनी रिपोर्ट तैयार की थी। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से बड़ी संख्या में रिपोर्टर कैमरामैन सहित कईयों ने लाइव रिपोर्टिंग की थी वे भी कोरोना वायरस के जांच के दायरे में आ सकते हैं।

Updated : 28 April 2020 8:20 PM GMT
Next Story
Share it
Top