Top
Home > Breaking News > प्रशासन के मॉकड्रिल से लोगो में दहशत, कोरोना पॉजिटिव मरीज की खबर अफवाह। अफवाह फैलाने पर हो सकती है सजा।

प्रशासन के मॉकड्रिल से लोगो में दहशत, कोरोना पॉजिटिव मरीज की खबर अफवाह। अफवाह फैलाने पर हो सकती है सजा।

प्रशासन के मॉकड्रिल से लोगो में दहशत, कोरोना पॉजिटिव मरीज की खबर अफवाह। अफवाह फैलाने पर हो सकती है सजा।
X



ताहिर खान
कवर्धा- कोरोना वायरस के चलते लोगों के दिलों में इस कदर डर घर कर गया है कि हर छोटी सी छोटी इससे संबंधित खबरों से लोग घबरा जाते हैं। ऐसा ही एक मामला कवर्धा के रामनगर इलाके में जिला व पुलिस प्रशासन के संयुक्त मॉक ड्रिल किए जाने के बाद से पूरे जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने की अफवाह फैल गई और लोग दहशत में आ गए। इस अफवाह को फैलाने में सबसे बड़ी भूमिका सोशल मीडिया के रही जो मोबाइल से शुरू हुई थी और शहर से गांव पहुंचते-पहुंचते तक कोरोना वायरस मरीज मिलने तक की खबर में तब्दील हो गई जबकि वास्तविकता इससे ठीक उलट है। सरकार प्रत्येक घर में कोरोना संबंधित जांच की प्रक्रिया शुरू करने वाली है उसी को लेकर कलेक्टर और एसपी ने टीम गठित कर रामनगर को चिन्हित किया था और एक पूरी टीम वहां पहुंचकर चारों तरफ से ब्लॉक कर दिए और सैनिटाइज किया गया कुछ हॉस्पिटलों को भी सैनिटाइज किया गया। यह सामान्य प्रक्रिया थी। वही कानून की बात करें तो इस तरह से अफवाह फैलाने वालों पर कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है


सोसल मीडिया के माध्यम से फैली अफवाह

जैसे ही मॉकड्रिल और भारी-भरकम टीम को लोगों ने अपने-अपने सोशल मीडिया के माध्यम से वीडियो और फोटो देखें इसके बाद मैसेज वायरल हो गया कि कवर्धा के रामनगर में कुछ कोरोना पॉजिटिव के मरीज मिले हैं जिसके लिए प्रशासन उन्हें उठाने गई है, जबकि हकीकत दूसरी थी तब तक यह बात जिले के कोने कोने तक सोशल मीडिया के माध्यम से पहुंच चुकी थी और लोग एक दूसरे से लगातार इस मामले को लेकर पूछते हुए दिख रहे हैं।

एसपी ने बताया इसे सामान्य प्रक्रिया

पुलिस अधीक्षक केे एल ध्रुव ने सीजी संवाद से बात करते हुए बताया कि यह मॉक ड्रिल का हिस्सा था और यह तैयारी देखने के लिए सामान्य रूप से किया जाता है यदि जिले के अंदर कहीं पर कोई कोरोना पॉजिटिव के मरीज मिलते हैं तो उनको कैसे कवर किया जाएगा, रोड ओपनिंग कैसे की जाएगी, हॉस्पिटल की तैयारी क्या होगी, उन्हें एम्स भेजने की क्या तैयारी होगी इन सब चीजों को मॉकड्रिल के माध्यम से समझने की कोशिश होती है ताकि इसमें कोई कोताही यह कुछ कमी रह जाए तो उसकी समीक्षा कर उसे समय रहते ठीक किया जा सके।

मॉक ड्रिल की होगी समीक्षा

जो मॉकड्रिल शहर में किया गया है उसकी समीक्षा कलेक्टर कार्यालय में होगी, जिसमें जिले के कलेक्टर अवनीश शरण और पुलिस अधीक्षक के एल ध्रुव के साथ पूरी टीम मौजूद रहेगी साथ ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व डॉक्टर भी मौजूद रहेंगे। यह पूरे मॉकड्रिल के बिंदु अनुसार अनेक बिन्दुओ पर समीक्षा करेंगे। आगेे क्या कमी रह गई है उसे ठीक करने पर रणनीति तैयार की जाएगी

Updated : 15 April 2020 1:13 PM GMT
Next Story
Share it
Top