Top
Home > Breaking News > सेनेटाइजिंग टनल पर डब्ल्यूएचओ की आपत्ति, स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक, लोगों में त्वचा संबंधी बीमारी का खतरा बढ़ा।

सेनेटाइजिंग टनल पर डब्ल्यूएचओ की आपत्ति, स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक, लोगों में त्वचा संबंधी बीमारी का खतरा बढ़ा।

सेनेटाइजिंग टनल पर डब्ल्यूएचओ की आपत्ति, स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक, लोगों में त्वचा संबंधी बीमारी का खतरा बढ़ा।
X

जिला अस्पताल का सैनिटाइजर टनल

0 स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- विभाग ने भी जारी किया है आदेश

ताहिर खान/ बसंत शर्मा
कवर्धा/ राजनांदगांव.- विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आपत्ति लगाई है कि राज्य सरकारों द्वारा लोगों को सेनटाइज करने के लिए जो सेनेटाइजिंग टनल लगाया जा रहा है वह लोगों के शरीर के लिए हानिकारक है. इसमें डाले जाने वाले केमिकल से लोगों की आंखों एवं त्वचा पर प्रभाव पड़ रहा है. जिसके चलते लोग बीमार हो रहे है. इसी के मद्देनजर सेनेटाइजिंग टनल पर आपत्ति लगाई गई है.
मिली जानकारी के अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ ) की आपत्ति के बाद कई राज्यों ने सार्वजनिक स्थल पर लगाए जाने वाले सेनेटाइजिंग टनल पर रोक लगा दी है. इसी के तहत विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ ) ने छत्तीसगढ़ सरकार को भी इस पर रोक लगाने कहा है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने बताया कि सेनेटाइजिंग टनल में जो केमिकल मिलाया जाता है, वह इंसान के शरीर के लिए है ही नहीं. निर्जीव वस्तुओं पर तो यह केमिकल इस्तेमाल हो सकता है. लेकिन इंसानों पर नहीं. इस केमिकल को जानवरों पर भी इस्तेमाल करना खतरनाक साबित हो सकता है. इसलिए इसका इस्तेमाल करना बहुत ही हानिकारक होगा. जिसके चलते कई राज्यों ने आदेश पारित कर दिया है कि सेनेटाइजिंग टनल कहीं भी नहीं लगाए जाएंगे. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में भी सैनिटाइजिंग टनल अस्थाई रूप से बंद कर दिया है.

विभाग ने भी जारी किया है आदेश- स्वास्थ्य मंत्री


छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने फोन पर चर्चा करते हुए बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ ) ने गाईड लाईन जारी की है. कुछ राज्यों ने सेनेटाइजिंग टनल पर रोक लगा दी है. एक बार मैं इसकी जानकारी ले लेता हू, कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ ) ने और क्या कहा है।

Updated : 17 April 2020 3:05 PM GMT
Next Story
Share it
Top