Top
Home > Breaking News > मिसाल- ग्रामीणों ने ली बैठक, गांव में बाहरी व्यक्ति का प्रवेश निषेध, स्वच्छ रहने के लिए शपथ।

मिसाल- ग्रामीणों ने ली बैठक, गांव में बाहरी व्यक्ति का प्रवेश निषेध, स्वच्छ रहने के लिए शपथ।

मिसाल- ग्रामीणों ने ली बैठक, गांव में बाहरी व्यक्ति का प्रवेश निषेध, स्वच्छ रहने के लिए शपथ।
X

बैठक में मौजूद ग्रामीण

ताहिर खान, प्रधान संपादक
कवर्धा- छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में करोना वायरस एक पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद पूरे छत्तीसगढ़ हाईअलर्ट पर है। बाजार से लेकर मॉल, टॉकीज, ठेले 31 मार्च तक बंद कर दिए गए हैं। मुख्यमंत्री के भेंट-मुलाकात कार्यक्रम को भी स्थगित कर दिया गया है, साथ ही कोर्ट में भी इसका असर देखने को मिल रहा है जहां बेहद ही जरूरी केसों में में सुनवाई की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोगों से लोगों से जागरुक रहने अपील की है, जिसका असर अब देखने को मिल रहा है।

कोरोना को लेकर ग्रामीणों ने ली गॉव में बैठक,लिएअहम निर्णय

ग्राम चारभाठा में ग्रामीणों ने शुक्रवार को सुबह 8:00 बजे एक बैठक आयोजित की जिसमे 6 बिंदुओं पर गहन चर्चा की गई और यह सभी निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया कि गांव में सप्ताहिक जो बाजार लगते हैं उसे 31 मार्च तक नहीं लगने दिया जाएगा।

गांव में बाहरी व्यक्ति का प्रवेश निषेध

ग्रामीणों ने बैठक में एक बड़ा और अहम फैसला लिया गया कि गांव के अंदर किसी अन्य प्रदेश से पहुंचने वाले किसी भी व्यक्ति को गांव के अंदर सीधा प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सबसे पहले उसे जिला अस्पताल ले जाकर प्रारंभिक जांच करवाई जाएगी। ग्रामीणों ने अपने बैठक में यह भी फैसला लिया है कि गांव के लोग ज्यादा से ज्यादा स्वच्छ रहेंगे साथ ही अपने घर सड़कें चौक-चौराहों को भी साफ-सफाई रखने में मदद करेंगे और हाथ लगातार धोते रहेंगे और मास्क पहनेंगे एक दूसरे से कम ही संपर्क बनाएंगे। चारभाटा में मौजूद धान खरीदी केंद्र को भी 31 मार्च तक बंद करने की प्रशासन से अपील किया गया है।

ग्रामीणों ने पेश की मिसाल

चारभाठा के ग्रामीणों ने कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता दिखाते हुए गांव में ही बैठक कर जो निर्णय लिए हैं वह देश प्रदेश के लोगों के सामने एक बड़ी मिसाल पेश किए हैं। इस तरह अगर प्रत्येक गांव में बैठक आयोजित हो और इस तरह से फैसले लिए जाएं तो निसंदेह कोरोना वायरस को फैलने से पहले ही रोका जा सकता है।

प्रशासन को करना चाहिए आदेश जारी।

गंभीर व लाइलाज करोना वायरस को फैलने से पहले जिस प्रकार से चारभाटा में ग्रामीणों ने बैठक आयोजित कर अपने फैसले खुद ही लिए हैं वैसे ही प्रशासन को प्रत्येक गांव के लिए आदेश या अपील जारी करना चाहिए कि वे अपने गांव में बैठक लें और जागरूकता संबंधी तमाम बातें को उस बैठक में रखा जाए। खासकर बाहर से जो व्यक्ति आ रहे हैं उन्हें पहले जिला अस्पताल भेजा जाए और जरा भी संदिग्ध लगे तो उनकी जानकारी कलेक्टर व स्वास्थ्य विभाग को सूचित करें ताकि संक्रमण फैलने से पहले ही उसे रोका जा सके।

Updated : 20 March 2020 11:21 AM GMT
Next Story
Share it
Top