Top
Home > खास खबर > पाकिस्तान में कैद युवक की हुई रिहाई, वर्षो बाद मातृभूमि हुई नसीब,भूलवश कर गया था बॉर्डर पार।

पाकिस्तान में कैद युवक की हुई रिहाई, वर्षो बाद मातृभूमि हुई नसीब,भूलवश कर गया था बॉर्डर पार।

पाकिस्तान में कैद युवक की हुई रिहाई, वर्षो बाद मातृभूमि हुई नसीब,भूलवश कर गया था बॉर्डर पार।
X

0 2014 में अनजाने में पहुंच गया था पड़ोसी देश की सीमा में।

ताहिर खान

जांजगीर चांपा- जिले के मालखरौदा क्षेत्र के पिहरीद गांव का घनश्याम जाटवर, पाकिस्तान के इस्लामाबाद में कैद था, जिसकी रिहाई हो गई है. पाकिस्तान से युवक घनश्याम जाटवर, अमृतसर पहुंच गया था जिसको घर सही सलामत वापस लाने के लिए मालखरौदा और जांजगीर से टीम गठित कर घर लाया गया है। दरहसल जिले के मालखरौदा क्षेत्र के पिहरीद गांव के घनश्याम जाटवर, अपने परिवार के साथ साल 2014 में जम्मू के नवाशहर के ईंट भट्ठे में कमाने-खाने गए थे. यहां युवक घनश्याम लापता हो गया. परिजन ने काफी खोजबीन की, लेकिन कुछ पता नहीं चलने पर वे वापस अपने गांव पिहरीद आ गए. इस बीच परिजन को पता चला कि युवक घनश्याम, बीएसएफ कैम्प अमृतसर में है. जब परिजन वहां पहुंचे तो बीएसएफ के अधिकारियों ने बताया कि युवक ने बॉर्डर पार कर लिया है और पाकिस्तान पहुंच गया है.

इसके बाद परिजन ने सरकार से गुहार लगाई, लेकिन युवक का पता नहीं चला 2 साल पहले तात्कालीन सांसद कमला पाटले ने तात्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को चिट्ठी लिखकर परिजन की गुहार से अवगत कराया था, जिसके बाद युवक के पाकिस्तान के इस्लामाबाद में होने की जानकारी सामने आई थी अब परिजन के लिए खुशी की खबर है कि युवक घनश्याम जाटवर की पाकिस्तान से रिहाई हो गई है और घर वापसी भी हो गई, युवक घनश्याम जाटवर के भाई सुशील जाटवर ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया है कि उनका भाई सही सलामत घर वापस आ गया है ।




Updated : 12 Nov 2020 7:45 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top