Top
Home > छत्तीसगढ़ > गोबर बेचकर चरवाहों ने खरीदी दो पहिया वाहन, कहा, आजीवन चलती रहे योजना।

गोबर बेचकर चरवाहों ने खरीदी दो पहिया वाहन, कहा, आजीवन चलती रहे योजना।

गोबर बेचकर चरवाहों ने खरीदी दो पहिया वाहन, कहा, आजीवन चलती रहे योजना।
X

0 गोधन योजना से ग्रामीणों कि सुधर रही आर्थिक स्थिति

ताहिर खान

कवर्धा- गोधन योजना को जिस उद्देश्य से सरकार ने तमाम विरोध के बीच शुरू किया था अब यह योजना जमीनी स्तर पर फायदेमंद साबित होता दिख रहा है। लोग गोबर बेचकर मोटरसाइकिल से लेकर सोने चांदी तभी खरीद कर रहे हैं। राज्य सरकार की गोधन न्याय योजना का प्रतिफ़ल आम जनता को मिलता नज़र आया जहा गोबर बेचकर लाभार्थी ने दुपहिया वाहन खरीदने के सपने को पूरा किया और इस योजना को कभी न बन्द करने के लिए सरकार से आग्रह भी किया ।

नगर पँचायत पांडातराई का जहाँ गो धन न्याय योजना के तहत 2 लाभार्थियों ने दुपहिया वाहन खरीदकर इस योजना की हृदय से प्रशंशा की । इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए नगर पंचायत अध्यक्ष फिरोज खान ने बताया कि नगर पंचायत पांडातराई में लगभग 56 लोगो ने गोबर बेचने के लिए पंजीयन कराया है जिनसे गोबर खरीदने के बाद वर्ली कम्पोस्ट खाद बनाने का काम किया जा रहा है साथ ही कंडे (छेने) भी बनाये जा रहे हैं। फिरोज खान ने कहा कि जितने भी लाभार्थी इस योजना का लाभ ले रहे उन सबके मन मे खुशी की लहर स्पस्ट झलकती है और लाभार्थी उनसे आकर स्वयं इस योजना की तारीफ कर इसे कभी न बन्द होने की मंशा जाहिर करते हैंइसी कड़ी में अध्यक्ष ने बताया कि नगर पंचायत पांडातराई के वार्ड 07 के बहोरिक यादव ,वार्ड 05 के परस यादव ने गो धन न्याय योजना के तहत गोबर बेच बेच कर महज 3 माह में ही दुपहिया वाहन खरीदा जिससे इस योजना की महत्ता, जिससे जरूरतमंदों की आय के स्रोत को एक आयाम मिला को समझ जा सकता है ।साथ ही अध्यक्ष फिरोज खान ने उपस्थित सभी लाभार्थियों को गो धन न्याय योजना का एक एंट्री बुक भी लाभार्थियों प्रदान किया जिससे उनके रोज की बिक्री पारदर्शिता भी बनी रहे ।प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक 1544 क्विंटल गोबर की खरीदी कर राशि लाभार्थियों के खातों में पहुँचा दी गयी है

Updated : 2021-01-03T17:16:19+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top