Top
Home > कोरोना > कबीरधाम जिले में COVID से क्यों जा रही है तेजी से लोगो की जान, जानने पहुंचे प्रियंका शुक्ला,अब तक 53 की हो चुकी है मौत।

कबीरधाम जिले में COVID से क्यों जा रही है तेजी से लोगो की जान, जानने पहुंचे प्रियंका शुक्ला,अब तक 53 की हो चुकी है मौत।

कबीरधाम जिले में COVID से क्यों जा रही है तेजी से लोगो की जान, जानने पहुंचे प्रियंका शुक्ला,अब तक 53 की हो चुकी है मौत।
X

0 एनएचएम एम डी डॉ प्रियंका व दुर्ग सम्भाग के स्वास्थ्य संचालक डॉ सुभाष पांडेय ने किया जिले का दौरा।

ताहिर खान

कवर्धा- जिले में कोरोना वायरस संक्रमण कम होने का नाम नहीं ले रहा है, ग्रामीण क्षेत्रों के मुकाबले में शहरी क्षेत्र में तेजी के साथ एक बार फिर कोरोना वायरस की जद में आता जा रहा है। तीज त्योहारों के चलते बाजार में बेइंतेहा भीड़ थी, सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का नामोनिशान नहीं था, जिसका दुष्परिणाम अब फिर देखने को मिल रहा है कोविड-19 मरीजों की संख्या में अचानक ही बढ़ोतरी देखी जा रही है, इसके साथ ही लोगों की जान बेहद तेजी के साथ जा रही है। अब तक 53 लोग मौत के गाल में समा चुके हैं, जिससे स्वास्थ्य महकमा बेहद चिंतित है, इतनी तेजी से हो रही मौत के कारण जानने के लिए स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी जिला के दौरे पर पहुंचे, जिसमें निष्कर्ष निकलकर यह सामने आया कि कोविड-19 की जांच तुरंत कराने में अभी भी डर रहे हैं और करा रहे हैं तो बहुत वक्त के बाद।दुर्ग सम्भाग के स्वास्थ्य संचालक सुभाष पांडेय व 21 नवम्बर को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ प्रियंका शुक्ला ने कबीरधाम जिले का दौरा किया। इस दौरान समीक्षा बैठक लेकर डॉ शुक्ला ने कोरोना जांच बढाने, लक्षण वाले लोगों के चिन्हांकन के लिए एक्टिव सर्विलेंस में तेजी लाने व कोरोना से हुए निधनों के कारणों की समीक्षा करके इसके अनुरूप जनजागरूकता बढाने पर जोर दिया। बैठक में जिला कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा, जिला पंचायत सी ई ओ विजय दयाराम, सीएमएचओ डॉ शैलेन्द्र कुमार मंडल समेत समस्त बीएमओ, जिला सर्विलेंस अधिकारी, डीपीएम व सम्बन्धित कर्मचारीगण उपस्थित थे।

जिला कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने जिले के 53 कोरोना संक्रमित लोगों की मृत्यु के प्रमुख कारणों की समीक्षा करते हुए बताया कि लक्षण छुपाकर जांच में देरी के कारण जानें गई हैं। लोग यदि जल्द जांच कराते तो शायद जानें बचाई जा सकती थीं।

53 की जा चुकी है जान

कवर्धा विकासखण्ड में सर्वाधिक 27 लोगों की जान कोरोना संक्रमण से गई है। पंडरिया में 16,बोड़ला से 6 व लोहारा में 4 लोगों की निधन कोरोना के चलते हुई हैं। डॉ प्रियंका ने लक्षण वाले लोगों की पहचान के लिए सर्विलेंस बढाने, 24 घण्टे के भीतर चिन्हांकीतों का कोरोना जांच, एंटीजन जांच में नेगेटिव आने वाले लक्षण युक्त लोगों का अनिवार्य आर टी पी सी आर जांच करने व विकासखण्डवार दिए गए जांच के लक्ष्य को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया।

मितानिनों से हुई चर्चा

दुर्ग सम्भाग के स्वास्थ्य संचालक डॉ सुभाष पांडेय ने कोरोना जनजागरूकता बढाने, कोरोना नियंत्रण के अनुरूप व्यवहार बढाने अर्थात मास्क का अनिवार्य उपयोग, दो गज शारीरिक दूरी का पालन व प्रॉपर हैंड वाश की आदतों को लोगों के व्यवहार में शामिल करने वाले कम्युनिकेशन व प्रचार-प्रसार बढाने पर जोर दिया। "जब तक दवाई नही तब तक ढिलाई नही" के सन्देश को जनसामान्य तक पहुचाने पर भी उन्होंने जोर दिया। कवर्धा के वार्ड नम्बर 18 पहुचकर उन्होंने मितानिनों व आम नागरिकों से चर्चा की। उन्होंने मितानिनों को बताया कि लक्षण वाले लोगों की पहचान करके तत्काल कोरोना जांच करवाने का कार्य करें। इसकी सूचना स्वास्थ्य अमले को देने के लिए भी उन्होंने कहा। इसके अलावा स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में सर्दी , खांसी, बुखार, स्वास में तकलीफ वाले लोगों की पहचान व इनकी जानकारी बनाकर जांच कराने के लिए भी उन्होंने कहा।

उन्होंने जिले में संचालित कोरोना नियंत्रण कार्यकम का निरीक्षण किया गया व स्वास्थ्य कार्यक्रमों की भी समीक्षा की। उनके द्वारा सी एम एच ओ, डी एस ओ,समस्त बी एम ओ, डी पी एम समेत स्वास्थ्य विभाग के सम्बन्धित अधिकारी-कर्मचारियों की समीक्षा बैठक लेकर आवश्यक निर्देश दिए। विकासखंडों में मिले कोरोना जांच लक्ष्य को गम्भीरता से पूर्ण करने, समय पर रिपोर्ट्स करने के लिए उन्होंने कहा। कोविड अस्पताल का दौरा करके उन्होंने अस्पताल संचालन के कार्यों की समीक्षा की व निरन्तर सुविधाओं को बढाने व सेवाओं में तीव्रता लाने के लिए कार्ययोजना बनाने के लिए भी सम्बन्धितों को कहा गया।




Updated : 21 Nov 2020 1:14 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top