Top
Home > छत्तीसगढ़ > किसानों के लिए रविवार साबित हुआ काला दिवस, फसल के साथ-साथ किसानों के सपने हुए धुआ-धुआ।

किसानों के लिए रविवार साबित हुआ काला दिवस, फसल के साथ-साथ किसानों के सपने हुए धुआ-धुआ।

किसानों के लिए रविवार साबित हुआ काला दिवस, फसल के साथ-साथ किसानों के सपने हुए धुआ-धुआ।
X

0 दो अलग-अलग आगजनी की घटनाओं में लगभग 17 एकड़ में लगे गन्ने की फसल जलकर राख।

ताहिर खान

कवर्धा- रविवार का दिन किसानों के लिए काला रविवार साबित हुआ। खून पसीना और दिन रात की मेहनत के बाद उगाई गई गन्ने की फसल को आग ने अपने आगोश में ले लिया। दो अलग-अलग जगह में हुए आगजनी की इस घटना में लगभग 17 एकड़ में लगे गन्ने की फसल जलकर राख बन गई। किसान के सारे सपने भी इस आग के साथ धुआं-धुआं हो गया। शहर से मात्र 3 KM दूरी पर ग्राम पंचायत तालपुर में गन्ने की खेत मे लगी भीषण आग लग गई, ग्रामीणों के अनुसार शार्ट सर्किट के चलते आग लगना बताया, ग्रामीणों ने तुरंत फायर ब्रिगेड को सूचना दी,जानकारी मिलते ही मौके पर फायर ब्रिगेड पहुची, नव एकड़ का गन्ना जलकर राख हो गया , गन्ने में आग लगने से किसान को लाखों रुपये का नुकसान का अंदाज़ा लगाया जा रहा है।

वही दूसरी घटना में बोडला थाना के पोंडी चौकी अंतर्गत गन्ने की खेत में अचानक आग लग गई और देखते ही देखते भीषण आग की लपटें 8 एकड़ गन्ना की फसल को अपने चपेट में ले लिया। ग्रामीणों पोड़ी पुलिस को मामले की जानकारी दी और पुलिस मौके पर पहुंचकर फायर ब्रिगेड को आग पर काबू करने बुलाया, फायर ब्रिगेड की टीम ने आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन आग की लपटें इतनी तेज थी की आग को काबू करना नही कर पाई, और भीषण आग ने 8 एकड़ के गन्ना फसल को पूरी तरह राख कर दिया। पीड़ित किसान ने बताया कि उसकी गन्ना फसल पूरी तरह शक्कर कारखाना में बेचने तैयार हो चुकी थी और उसे शक्कर कारखाना से टोकन भी प्राप्त हो गया था, जो कि आज कल में गन्ना को काटकर शक्कर कारखाना में बेचने ले जाने वाला था,तभी आगजनी की घटना हो गई। किसान ने शासन से मुआवजा की मांग किया है।


Updated : 2020-12-20T21:18:12+05:30
Tags:    
Next Story
Share it
Top