Top
Home > Breaking News > दिवाली की खुशियों पर सरकारी पहरा- दो घंटे के भीतर ही पटाखे फोड़ने के शौक़ करने होंगे पूरे, सड़कों पर नहीं दिखेंगी लड़ियां।

दिवाली की खुशियों पर सरकारी पहरा- दो घंटे के भीतर ही पटाखे फोड़ने के शौक़ करने होंगे पूरे, सड़कों पर नहीं दिखेंगी लड़ियां।

दिवाली की खुशियों पर सरकारी पहरा- दो घंटे के भीतर ही पटाखे फोड़ने के शौक़ करने होंगे पूरे, सड़कों पर नहीं दिखेंगी लड़ियां।
X

0 एनजीटी ने जारी किया दिशा निर्देश।

ताहिर खान

सीजी संवाद डेस्क - उल्लास उमंग व हर्ष का सबसे बड़ा त्यौहार दीपावली पर तमाम तरह के नियमों का कोहरे छाते हुए दिख रहा हैं। कई दिनों तक दीपावली के पटाखे फोड़े जाते थे, लेकिन कोरोना संक्रमण काल ने त्योहार के स्वरूप को ही बदल कर रख दिया है। नेशनल ग्रीन ट्यूबनल, प्रिंसिपल बेंच, नई दिल्ली ने सभी राज्यों को पटाखा बिक्री एवं उपयोग संबंधी दिशा निर्देश जारी किए हैं, और इसका कड़ाई से पालन करने को कहा है। इसी कड़ी में छत्तीसगढ़ शासन ने पटाखा फोड़ने व बेचने को लेकर सभी कलेक्टर को निर्देश जारी कर दिए हैं, जिसमें यह कहा गया है कि दीपावली की रात में रात्रि 8:00 बजे से लेकर 10:00 बजे के भीतर ही पटाखे फोड़े व जलाएं जा सकेंगे,इसके अलावा छठ पूजा के दिन प्रातः 6:00 बजे से लेकर 8:00 बजे सुबह तक पटाखे फोड़ पाएंगे। सबसे अधिक बिकने वाली पटाखों की लड़ियां जिसे सड़क या आंगन में बिछाकर पूरा परिवार एक साथ छोड़ता था लेकिन अब इन लड़ियों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है, साथ ही ग्रीन ट्रिब्यूनल ने यह कहा है कि क्षमता से कम आवाज वाले ही पटाखे इस दौरान थोड़े जा सकेंगे।

लाइसेंस हो सकता है रद्द

इसी प्रकार दुकानदारों को भी सख्त निर्देश जारी किया गया है कि सिरिंज और लड़ियां या उच्च आवाज वाले पटाखा बेचने पर लाइसेंस को रद्द किया जा सकता है।

कोरोना का बढ़ सकता है संक्रमण

सरकार का कहना है कि पटाखों के अधिक उपयोग होने से प्रदूषण स्तर में वृद्धि होती है, वायु प्रदूषण बढ़ने से कोविड-19 के वायरस के घातक रूप की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता, वायु प्रदूषण अधिक होने से कोविड-19 वायरस के मरीजों की संख्या में इजाफा हो सकता है। अतः यह निर्देशित किया गया है कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल प्रिंसिपल बेंच ने दिल्ली के द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पालन करने को कहा गया है।

ऑनलाइन से नहीं मंगा पाएंगे फटाके

आज के दौर में ऑनलाइन मार्केटिंग का दायरा बहुत तेजी के साथ बढ़ा है। गांव से लेकर शहर तक फ्लिपकार्ट, अमेजॉन जैसे ऑनलाइन मार्केटिंग कंपनियों से ऑनलाइन खरीदी कर रहे हैं, जिससे स्थानीय व्यापार भी काफी हद तक प्रभावित हुआ है ऐसे में सरकार ने ऑनलाइन मार्केटिंग से पटाखे मंगाने को लेकर भी मना किया गया है। इसका मतलब यह हुआ कि ऑनलाइन पटाखे नहीं खरीद पाएंगे।

वायु प्रदूषण की होगी जांच

एनजीटी के दिशा निर्देश अनुसार सरकार जिला स्तरीय टीम गठित कर छत्तीसगढ़ के प्रमुख शहर रायपुर, दुर्ग, भिलाई, अंबिकापुर कोरबा, जगदलपुर, रायगढ़ आदि जगहों पर 7 नवंबर से लेकर 21 नवंबर तक वायु में Pa, N, Pn, Ni, PS2, so2, No, Ba, Fe आदि तत्वों की जांच करेगा

Updated : 9 Nov 2020 2:24 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top